घायलों की मदद करना आसान करेगी सरकार

सड़कदुर्घटनाओंमेंघायलोंकोअस्पताललेजानेयापुलिसकोसूचनादेनेवालेसज्जनोंकेसंबंधमेंसरकारनेएकमानकसंचालनप्रक्रियाअधिसूचितकीहै।इसमेंऐसेमददगारसज्जनोंकेसाथसम्मानजनकव्यवहारकनेसेसंबंधितनिर्देशदिएगएहैं।अधिसूचनाकेमुताबिकजबतकमददकरनेवालाचश्मदीदहोनेकादावानहींकरतातबतकउसपरव्यक्तिगतजानकारीजैसेपूरानाम,पताऔरफोननं.इत्यादिसाझाकरनेकादबावनहींडालाजाएगा।सड़कपरिवहनमंत्रालयद्वाराजारीइसअधिसूचनाकेतहतमददकरनेवालाअगरविटनेसबननाचाहताहैऔरवहपूछताछकेलिएपुलिसस्टेशननहींआनाचाहतातोपुलिसऐसेस्थानोंपरहीउससेपूछताछकरेगीजोविटनेसकेलिएसुविधाजनकहों।जैसेकिविटनेसकेघरयाऑफिसपर।साथहीपुलिसवर्दीकेबजायसाधारणकपड़ोंमेंहीउसकेघरयाऑफिसपरपूछताछकरनेजासकेगी।सुप्रीमकोर्टनेकेंद्रसरकारकोभलेऔरमददगारलोगोंकीसुरक्षाहेतुकदमउठानेऔरउनकीजानकारीकोर्टकोसौंपनेकानिर्देशदियाथा।इसनिर्देशके15दिनोंकेभीतरही10जनवरीकोसड़कपरिवहनमंत्रालयनेयहअधिसूचनाजारीकरदी।इसकीजानकारीसबसेपहलेटाइम्सऑफइंडियाकेहवालेसेहीमिली।मानकप्रक्रियाकेअनुसारयदिमददगारपूछताछकेलिएपुलिसस्टेशनआनेकोतैयारहोजाताहैतोउससेसारीपूछताछव्यवस्थितऔरसमय-बद्धतरीकेसेएकमुलाकातमेंहीकीजाएगी।अगरजांचअधिकारीसंबंधितव्यक्तिकीभाषासमझनेमेंसहजनहींहैतोपूछताछकेलिएएकअनुवादककीव्यवस्थाकरनाभीजांचअधिकारीकाहीदायित्वहोगा।भारतमेंसालाना1.4लाखलोगसड़कदुर्घटनाओंमेंमरतेहैं।सरकारीरिपोर्टकेमुताबिकइनमेंसेकमसेकम50प्रतिशतमौतोंकोटालाजासकताहैअगरघायलोंकोदुर्घटनाकेएकघंटेकेभीतरहीअस्पतालमेंभर्तीकरादियाजाए।इसशुरुआतीएकघंटेको'गोल्डनआवर'कहाजाताहै।