EC ने Ashok Lavasa की असहमति वाली टिप्पणियों का खुलासा करने से किया इनकार

दरअसल,हालियालोकसभाचुनावकेदौरानप्रधानमंत्रीनरेंद्रमोदी(PMNarendraModi)परभाषणोंकेजरिएआदर्शआचारसंहिताकेकथितउल्लंघनकाआरोपलगायागयाथा।निर्वाचनआयोगमेंइसेलेकरशिकायतकीगईथी।येशिकायतेंप्रधानमंत्रीकेवर्धामेंएकअप्रैल,लातूरमेंनौअप्रैल,पाटनऔरबाड़मेरमें21अप्रैलतथावाराणसीमें25अप्रैलकोरैलियोंमेंदिएभाषणोंकोलेकरडालीगईथीं।इन्‍हींशिकायतोंपरकिएगएफैसलोंपरलवासानेअसहमतिजताईथी।पुणेकेआरटीआईकार्यकर्ताविहारदुर्वेनेसूचनाधिकारकानूनकेतहतलवासाकीटिप्‍पणियोंकीबाबतजानकारीमांगीथी।

इसआरटीआईकेजवाबमेंनिर्वाचनआयोगनेसूचनाकेखुलासेसेछूटलेनेकेलिएआरटीआईअधिनियमकीधारा8(1)(जी)काहवालादिया।आयोगकीओरसेकहागयाकिइसधाराकेतहतवैसीसूचनाकाखुलासाकरनेसेछूटहासिलहैजोकिसीभीशख्‍सकेजीवनयाशारीरिकसुरक्षाकोखतरेमेंडालसकतीहै।लवासानेअपनीअसहमतिवालीटिप्पणियोंकोचुनावआयोगकेआदेशोंमेंदर्जकरनेकीमांगकीथीलेकिनऐसानहींहोनेपरउन्‍होंनेखुदकोकथिततौरपर संबंधितमामलेसेखुदकोअलगकरलियाथा।

लोकसभाचुनावऔरक्रिकेटसेसंबंधितअपडेटपानेकेलिएडाउनलोडकरेंजागरणएप