Army Recruitment: सेना में फर्जी दस्तावेजों से भर्ती कराने का डेढ़ वर्ष पहले हो गया था ठेका

आगरा,जागरणसंवाददाता।सेनाभर्तीमेंफर्जीदस्तावेजोंसेभर्तीकरानेकाठेकाडेढ़वर्षपहलेहोगयाथा।जालसाजोंनेअभ्यर्थियोंकोदोसेतीनलाखरुपयेमेंभर्तीकरानेकालालचदियाथा।इनसभीकासगंजकानिवासप्रमाणपत्रबनवानेकेनामपर30से50हजाररुपयेतकवसूलेथे।बाकीरकमभर्तीहोनेकेबाददेनेकीकहागयाथा।गिरफ्तारअभ्यर्थियोंसेपूछताछमेंपुलिसकोकईअहमजानकारीमिलीहैं।इसकेआधारपरवहसरगनातकपहुंचनेकाप्रयासकररहीहै।

पुलिसनेमंगलवारकोफर्जीदस्तावेजोंसेसेनाभर्तीमेंसेंधलगानेकीकोशिशकरनेवालेदसअभ्यर्थियोंकोगिरफ्तारकियाथा।इनमेंबुलंदशहरकेलवकुशचौधरी,रोहित,जयप्रकाशऔरहापुड़निवासीसनी,हितेश,सचिन,गौरव,विनीतवप्रदीप,गौतमबुद्धनगरनिवासीकुलदीपतेवतियाथे।पुलिसकेपूछताछकरनेपरआरोपितोंनेबतायाकिवहकरीबडेढ़वर्षपहलेभर्तीकरानेवालेगिरोहकेएजेंटोंकेसंपर्कमेंआएथे।उन्होनेभर्तीमेंदाेसेतीनलाखरुपयेखर्चाबताया।भर्तीकेलिएआनलाइनपंजीकरणकरानेसेपहलेउनकेकासगंजकेफर्जीनिवासप्रमाणपत्रबनवाए।

इनप्रमाणपत्रोंकोबनवानेकेलिएउनसे30से50हजाररुपयेलिएगएथे।गिरोहकासरगनाउनसेसीधेनहींमिलाथा।वहएजेंटकेमाध्यमसेहीउनसेबातकरताथा।एजेंटभीकभीउसकानामनहींबताया।मगर,एजेंटद्वाराउनकाफर्जीनिवासप्रमाणपत्रबनवानेकेबादउन्हेंउसपरविश्वासहोगयाथा।इंस्पेक्टरसिकंदराअरविंदकुमारनेबतायाआरोपितोंसेपूछताछमेंकुछएजेंटकेनामसामनेआएहैं।जोकिबुलंदशहरऔरहापुड़केरहनेवालेहैं।इनएजेंटकेबारेमेंपतालगाउनकीगिरफ्तारीकेप्रयासकिएजरहेहैं।इससेकिसरगनातकपहुंचाजासके।

इनबिंदुओंपरकररहीजांच

-बुलंदशहरऔरहापुड़केएजेंटअलग-अलगहैंयाउनकेतारएकहीगिरोहसेजुड़ेहैं।

-गिरोहकासरगनाकौनहै,उसकाक्यानामहै,एजेंटसेकैसेसंपर्ककरताथा।

-हापुड़औरबुलंदशहरकेअभ्यर्थियोंकेएजेटनेकासगंजसेहीक्योंनिवासप्रमाणपत्रबनवाए

-इनएजेंटकेतारकासगंजसेकिसतरहसेजुड़ेहैं,क्यावहांभीउनकेगिरोहकेसदस्यहैं

-जालसाजगिरोहऔरउसकेएजेंटसेनाभर्तीमेंशामिलहोनेवालेअभ्यर्थियोंकोकिसतरहसेखोजतेथे।

-सरगनाअपनेएजेंटकोकितनाकमीशनदेताथा।